+0121 243 9032
Chhoti Panchli, Bagpat Marg, Meerut, Uttar Pradesh 250002
09:00 - 21:00
0
  • No products in the cart.
VIEW CART Total: 0

सुमिरन

IASSसुमिरन
#striped-custom-667171d2d5f60 h3:after {background-color:#e07523!important;}#striped-custom-667171d2d5f60 h3:after {border-color:#e07523!important;}#striped-custom-667171d2d5f60 h3:before {border-color:#e07523!important;}

सुमिरन

अंत स्थित आत्म सत्ता के संपर्क में आना मन का ठहराव है। प्रत्येक व्यक्ति को दिन में कम से कम तीन बार बीस बीस मिनट के लिए अपने अंदर जाने का अभ्यास करना चाहिए . ध्यान की कोई भी पद्धति से ध्यान का अभ्यास कर सकते हैं।

ध्यान के लाभ

  • अहंकार मिट जाएगा।
  • मानसिक तनाव, आक्रोश, घृणा और ईर्ष्या आदि में कमी।
  • चेतना का उत्थान।
  • स्वास्थ्य में सुधार होता है, जैसे -
    (ए) पित्त, अग्नाशय और गैस्ट्रिक आदि जैसे रसों की गुणवत्ता में सुधार होगा।
    (बी) पाचन, आत्मसात और उन्मूलन बेहतर हो जाएगा।

इस प्रकार तप-सेवा-सुमिरन शरीर, मन और आत्मा के एकीकृत विकास की उपलब्धि के लिए एक मूर्खतापूर्ण तरीका है।

इंटरनेशनल एसोसिएशन फॉर साइंटिफिक स्पिरिचुअलिज्म के सभी इच्छुक (साधक) सुमिरन का अभ्यास कर रहे हैं।

वैज्ञानिक अनुसंधान ने इस दर्शन की प्रामाणिकता को सिद्ध किया है।