+0121 243 9032
Chhoti Panchli, Bagpat Marg, Meerut, Uttar Pradesh 250002
09:00 - 21:00
0
  • No products in the cart.
VIEW CART Total: 0

अखंड स्वास्थ्य

IASSतपअखंड स्वास्थ्य
#striped-custom-6652cb72c98f2 h3:after {background-color:#e07523!important;}#striped-custom-6652cb72c98f2 h3:after {border-color:#e07523!important;}#striped-custom-6652cb72c98f2 h3:before {border-color:#e07523!important;}

शारीरिक स्तर

शारीरिक स्तर पर आत्मा, जो हमारे शरीर में निवास करती है, स्वास्थ्य का भंडार है। संपूर्ण स्वास्थ्य शरीर की एक सामान्य स्थिति है जिसे सहजता के रूप में जाना जाता है। बीमारी शरीर की अस्वाभाविक स्थिति है ।

हिंदी भाषा का स्वास्थ्य शब्द का प्रयोग 'स्व में स्थित' रहने के लिए किया जाता है, जिसका अर्थ है अन्तः स्थित ईश्वर में स्थापित होना, जो स्वास्थ्य का भंडार है।

स्वास्थ्य अशुद्धियों से ढका होता है, जो शरीर के विभिन्न अंगों और स्थानों में भोजन के अपशिष्ट पदार्थों के माध्यम से और मानसिक तनाव के माध्यम से भी उत्पन्न होते हैं। जैसे-जैसे अपशिष्ट पदार्थ जमा होते जाते हैं, वे अंततः किसी प्रकार की बीमारी के लक्षण पैदा करते हैं और फिर हम डॉक्टर के पास दौड़ते है ताकि शरीर को पूर्ण स्वास्थ्य में वापस लाने के लिए दवाओं का सहारा लिया जा सके।

फिर भी, सीधा सच यह है कि दवाएं रोगों के लक्षणों को दबा कर क्षणिक आराम दे सकती हैं किन्तु रोगनाश नहीं करतीं हैं। संपूर्ण स्वास्थ्य प्राप्त करने का एकमात्र तरीका उचित खान-पान है ताकि अशुद्धियाँ जमा न हों। और तब व्यक्ति वह प्राप्त करेगा जिसे हम संपूर्ण दिव्य स्वास्थ्य कहते हैं। इस आहार प्रणाली को लागू करने पर आप अखंड स्वास्थ्य प्राप्त कर सकते हैं . चिकित्सा अनुसंधान के माध्यम से इसे आजमाया, परखा और सिद्ध किया गया है।

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि रोग का कारण रोगाणु नहीं है जैसा कि प्रायः माना जाता है। रोगाणु वहीं पैदा होते हैं जहां उनका भोजन यानि गन्दगी उपलब्ध होती है. इस गन्दगी को साफ़ करके पुनः स्वस्थ हुआ जा सकता है.

हमारी आदर्श आहार प्रणाली का पालन करने से, शरीर में अशुद्धता का संचय कम हो जाएगा जिससे रोग दूर हो जाएंगे और पूर्ण दैवीय स्वास्थ्य प्रकट होगा।